"Dad ! Why God send us here ??"


मैं और विशाल हमारा मनपसंद टीवी धारावाहिक “Everybody Loves Raymond” देख रहे थे, उसमें एक बहुत अच्छा एपिसोड है जिसमें Raymond की बेटी उससे पूछती है “Dad! Why God send us here ?”

मैंने आजतक इस सवाल के बारे मैं नहीं सोचा पर फिर ख्याल आया अगर कल को मेरी बेटी/बेटे ने पुछा फिर ? मुझे उसको कुछ तो बताना होगा, मैं Raymond की तरह छींकना शुरू नहीं कर सकती। इसलिए मैंने एक चोटी सी कहानी बनाई है

भगवान जब भी सोचते थे उनके विचारों से आत्मा निकलती थी, अगर भगवान् नटखट सोचते थे तो एक नटखट आत्मा, पढ़ाई के विचार तो एक विद्वान आत्मा, खेल के विचार तो एक खिलाड़ी आत्मा……
हर एक विचार से एक आत्मा, और जब भगवान् ने आँख खोली पाया उनका स्वर्ग आत्माओं से भर गया है और कहीं कोई जगह नहीं है। भगवान् ने सोचा ऐसा कुछ करना पड़ेगा की जिनसे ये आत्माएँ कहीं व्यस्त हो जाएँ। उन्होंने फिर धरती बनाई, फिर उन्होंने हर एक चीज़ बनाईइंसान, जल, हवा, आग, पेड़, पौधे, जीवजंतु..आदिइत्यादि और फिर भगवान् ने हर आत्मा को उन के पीछे कर दिया जिससे की वो उनका ध्यान रख सके। अब भगवान् की जगह आत्मा जिम्मेदार होंगी उनके आचरण के लिए। जो सबसे अच्छा पालन करेगा उसे स्वर्ग में स्थान मिलेगा नहीं तो नरक में फिर से प्रशिक्षण ले कर वापस धरती पर जाएगा और पुनः उतरदायित्व संभालेगा।
इस क्रियाका नाम है जीवन।

अगर आपके पास कोई और वर्णन है तो ज़रूर बताइएआपके विचारों का स्वागत है।

Advertisements

2 thoughts on “"Dad ! Why God send us here ??"

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s