साल २००८ !!

समय आ गया है की अब हम साल २००८ को अलविदा कहें और नए साल के आगमन की तैयारियां करें । ये साल जैसे पंख लगा कर उड़ गया, और अपने आगन मैं कुछ हरेभरे और कुछ सूखे पत्ते छोड़ गया । ये साल मेरे और विशाल के लिए विशेष था, हमने एकसाथ पहला कदम उठाया था । अपने परिवारों से दूर इस अजनबी देश में ज़िन्दगी के शुरूआती समय बिताने का निर्णय लिया । अपनी स्थापित जीवन-व्रती को छोड़ कर नए सिरे से प्रारम्भ किया । शुरू के कुछ महीने कठिन थे । हमारे लिए ज़रूरी था की हम सब कठिनाइयों का सामना करते हुए अपने रिश्ते को मजबूत करे, और हमने ये ही किया । हमने साबित कर दिया चाहे कितनी भी मुसीबत या परेशानियां आ जायें हमदोनो के प्रेम की मजबूत गांठ के आगे कुछ नहीं है। और आज जब मैंने पीछे मुड़ कर देखती हूँ तो सब शन्भन्गुर लगता है । गर्वान्वित हूँ की हमने अपना धेर्य नहीं छोड़ा जब समय हमारे अनुसार नहीं था । मैं भगवान को धन्यवाद करती हूँ की उसनें हमदोनो को मुसीबतों से लड़ने की शक्ति प्रदान की और प्रार्थना करती हूँ की हमेशा से इसी तरह से अपना आशीर्वाद प्रदान करता रहे ।
ये साल ने कुछ स्वास्थ्य-सम्बन्धी मुश्किलें भी दी हैं हमदोनों परिवारों और कुछ निकटतम परिवारों को भी । हालाँकि, भगवान् की कृपा से हमारे परिवार में अब सब सामान्य है पर उन सब परिवारों के लिए भगवान से प्रार्थना करती हूँ जिन्होंने अपने प्रियजनों को खोया है और आशा करती हूँ की भगवान उन्हें संकट से उभरने की शक्ति दें ।

ॐ त्रयम्बकं यजामहे सुघंधिम पुष्टिवर्धनम ।
उर्वारुक्मिवा भंध्नान म्र्तियोर मुक्षीय माम्रतात ।।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s